कम सिबिल स्कोर पर लोन कैसे लें: यदि आपका सिबिल स्कोर कम है और आपको लोन की आवश्यकता है तो आप कई तरीकों से लोन ले सकते हैं। लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर का अच्छा होना बहुत जरूरी होता है। हाई सिबिल स्कोर होने पर कोई भी बैंक व NBFC लोन दे सकता है। मगर जब सिबिल स्कोर कम हो तो ऐसे मे लोन ले पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। लेकिन कुछ तरीकों से आप कम सिबिल स्कोर होने पर भी लोन ले सकते हैं। इन तरीकों को हम इस आर्टिकल मे बताएंगे। सबसे पहले आप कोशिश करे कि आपका सिबिल स्कोर कम न हो। यदि आपका सिबिल स्कोर कम नहीं होगा तो आप किसी भी बैंक से लोन ले सकते हैं। आपको लोन लेने मे कोई दिक्कत नहीं आएगी। लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर 750 या इससे ज्यादा होना चाहिए। फिर भी यदि आपका सिबिल स्कोर 750 से कम हैं तो आप इस तरह से लोन लें सकते हैं।

कम सिबिल स्कोर होने पर कैसे लोन मिलेगा, kam cibil score par kaise loan milega
खराब सिबिल स्कोर पर कैसे लोन मिलेगा

साबित करें कि आप ईएमआई समय पर चुका सकते हैं।

कम सिबिल स्कोर होने पर बैंक आपकी लोन एप्लीकेशन को रिजेक्ट कर सकता है। इसलिए बैंक के सामने साबित करें कि आप लोन की ईएमआई समय पर चुका सकते हैं। आप अपनी सैलरी का स्टेटस दिखा सकते हैं। आपको मिलने वाले बोनस को दिखा सकते हैं कि मैं इसका इस्तेमाल लोन की ईएमआई चुकाने में करूंगा। या फिर आपका कोई अन्य कमाई का साधन है तो उसका विवरण भी बैंक को दें इससे बैंक को आपके ऊपर ईएमआई चुकाने का विश्वास बढ़ेगा। बैंक भी कई बार वर्तमान स्थिति को देखकर लोन अप्रुव करते हैं। हो सकता है कि आपसे अपने पिछले लोन की ईएमआई चुकाने मे अंजाने मे चूक हो गयी हो जिसके कारण आपका सिबिल स्कोर डाउन हो गया हो। इसलिए बैंक यदि यह पाता है कि आप लोन की ईएमआई चुकाने मे सक्षम है तो बैंक आपको लोन दे सकता है।

इसे भी पढ़ें- कम सिबिल स्कोर के नुक़सान क्या हो सकते हैं | सिबिल स्कोर क्यो जरूरी होता है।

Secured लोन अप्लाई करें

अनसिक्योर्ड लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर का अच्छा होना बहुत जरूरी होता है। जिस व्यक्ति का क्रेडिट स्कोर हाई होता है उन्हे अनसिक्योर्ड लोन मिलने की संभावना ज्यादा रहती हैं। कम सिबिल स्कोर होने पर अनसिक्योर्ड लोन मिलना मुश्किल होता है। क्योंकि अनसिक्योर्ड लोन देने पर बैंक का जोखिम बढ़ होता है। वही सिक्योर्ड लोन लेने पर बैंक ग्राहक से कोई प्रापर्टी गिरवी रखवाता है। लोन ना चुका पाने की स्थिति में बैंक ग्राहक की प्रापर्टी के द्वारा लोन की भरपाई कर सकता हैं। इसलिए कम सिबिल स्कोर वाले ग्राहक को सिक्योर्ड लोन मिलना थोडा आसान होता है। सिक्योर्ड लोन भी कई तरह के होते हैं। यदि आपका सिबिल स्कोर बहुत कम है तो आप सिक्योर्ड लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं। कम क्रेडिट स्कोर होने पर अनसिक्योर्ड लोन की तुलना में सिक्योर्ड लोन मिलने की संभावना ज्यादा होती है।

Joint Loan अप्लाई करें

कम क्रेडिट स्कोर होने पर Joint Loan लेना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। आप किसी ऐसे व्यक्ति को लोन मे पार्टनर बना सकते हैं जिसका सिबिल स्कोर अच्छा हो। साथ ही वह Salaried Person होना जरूरी है। ऐसा करके बैंक से लोन लेना आसान हो जाता है। क्योंकि Joint Loan में ईएमआई का भार दो लोगों पर रहता है। जिससे ईएमआई चुकाने का बोझ कम हो जाता है। साथ ही बैंक भी ऐसा ही सोचता है कि दो व्यक्तियों के लिए ईएमआई चुकाने मे कोई परेशानी नहीं होगी और वे लोन की ईएमआई समय पर चुका सकेंगे। Joint Loan मे यदि पार्टनर एक महिला हैं तो इससे ब्याज में कुछ छूट भी मिल सकती है। ध्यान रहे कि बैंक Joint लोन तभी अप्रुव करता है जब लोन लेने वाले दोनों व्यक्तियों का कमाई का कोई साधन हों। यदि ऐसा नहीं होता है तो बैंक लोन एप्लीकेशन को रिजेक्ट भी कर सकता है।

किसी दूसरे को गारंटर बनाए

कम सिबिल स्कोर होने पर लोन मिलना मुश्किल होता है। ऐसे में आप सीधे सीधे बैंक जाकर लोन अप्लाई करते हैं तो बैंक से लोन रिजेक्ट होने की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए किसी ऐसे व्यक्ति को लोन लेने मे गारंटर बनाइये जिसका क्रेडिट स्कोर अच्छा हो। ऐसा करने से बैंक लोन अप्रुव कर सकता है। Joint लोन मे हिस्सेदारी व गारंटर बनना अलग अलग होता है। Joint लोन मे पार्टनर की लोन की ईएमआई चुकाने मे हिस्सेदारी होती है। जबकि गारंटर बनने पर लोन की ईएमआई चुकाने की जिम्मेदारी नहीं होती है बल्कि लोन न चुकाने की स्थिति में गारंटर ही जवाबदेही होती है कि लोन की किस्त चुकाने मे अपनी भूमिका निभाएं। तथा ग्राहक को लोन चुकाने के लिए बाध्य करें। यदि लोन न चुकाया जाये तो गारंटर के सिबिल स्कोर पर भी बुरा असर पड़ता है। जिससे गारंटर को भी भविष्य में लोन लेने मे दिक्कत आ सकती है।

इसे भी पढ़ें- Cibil Score Kya Hota Hain | Cibil Score Kaise Thik Kare

Gold लोन के लिए जाए

गोल्ड लोन सिक्योर्ड लोन की श्रेणी में आता है। गोल्ड लोन में सोने को जमानत के तौर पर रखा जाता है। जिससे यह एक सिक्योर्ड लोन बन जाता है। बैंक सोने की मौजूदा बाजार के हिसाब से कीमत तय करता हैं तथा कीमत का करीब 75 प्रतिशत तक का लोन दे सकता है। गोल्ड लोन कम सिबिल स्कोर होने पर भी आसानी से मिल जाता है। गोल्ड को जमानत के तौर पर रखते हुए बैंक का जोखिम कुछ कम हो जाता है। और लोन न चुकाने की स्थिति में बैंक गोल्ड को बाजार की कीमत पर बेचकर लोन की भरपाई कर सकता है। गोल्ड लोन लेते वक्त ध्यान रखें कि लोन अच्छे बैंक से ही लें। जिससे आपके गोल्ड के रखरखाव व शुद्धता के साथ किसी प्रकार की छेड़छाड़ न हो।

P2P Lending Platform से लोन लें

कम सिबिल स्कोर वाले व्यक्ति के लिए P2P (Peer To Peer Lending Platform) अच्छा विकल्प होता है। पीयर टू पीयर लेंडिंग प्लेटफार्म से कम सिबिल स्कोर के बावजूद भी लोन लिया जा सकता है। P2P लेंडिंग प्लेटफार्म पर बहुत से ऋणदाता होते हैं जो आपको कम सिबिल स्कोर पर भी लोन मुहैया करा सकते हैं। यहां से लोन लेना सुरक्षित होता है
क्योंकि P2P Lending Platform रिजर्व बैंक आफ इंडिया द्वारा रजिस्ट्रर्ड होता है। यहां से लोन लेने के लिए पहले आपको P2P Lending Platform पर रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है। जिसके कारण यहां पर धोखाधड़ी होने की संभावना नहीं होती है। लोन देने वाले लेंडर की P2P Lending Platform पर रजिस्टर्ड होते हैं। P2P Lending Plateform पर भारतीय रिजर्व बैंक के बनाये गये नियमों व शर्तो का पालन करना जरूरी होता है। जिसके कारण यह लोन लेने के लिए अच्छा विकल्प हो सकता है।

जानिए P2P Lending Platform क्या होता है

बैंक की बजाय NBFC से लोन लें

बहुत से NBFC कम सिबिल स्कोर होने पर भी लोन मुहैया कराते हैं। लेकिन NBFC से लोन लेने पर लोन की ब्याज दर बहुत ज्यादा होती है। जिससे आपको ब्याज दर के रूप में ज्यादा रकम चुकानी पड़ती है। ज्यादा ब्याज दर अप्लाई करने के कारण बहुत से NBFC कम क्रेडिट स्कोर पर भी लोन देते हैं। इनसे लोन केवल कुछ महीनों के लिए ही मिलता है। जिसमें यह लगभग 25 से 45 प्रतिशत ब्याज दर भी वसूलते हैं। यदि आपको बहुत ज्यादा ही इमरजेंसी हैं तो आप NBFC से कम सिबिल स्कोर होने के बावजूद भी लोन ले सकते हैं।

ये कुछ ऐसे तरीके हैं जिनके द्वारा आप कम सिबिल स्कोर होने पर भी लोन ले सकते हैं। यदि आपका सिबिल स्कोर खराब है और बैंक लोन देने से मना कर रहा है तो आपको कोशिश करनी चाहिए की अपने पिछले लोन या क्रेडिट कार्ड का बकाया समय पर चुका दे इससे आपका सिबिल स्कोर थोडा अच्छा हो सकता है जिसके बाद लोन लेने मे ज्यादा दिक्कत नहीं होगी। सिबिल स्कोर को देखते हुए लोन देना या ना देना पूर्णतः बैंक पर ही निर्भर करता है। मगर बताए गए कुछ तरीके आपको लोन दिलाने मे जरूर मददगार साबित हो सकते हैं। आप ऐसी ही जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज LOAN JANKARI से जुड़ना चाहते हैं तो पेज को Follow करें। टेलीग्राम चेनल को भी ज्वाइन करें। उम्मीद करते हैं कि इस पोस्ट मे बताई गई जानकारी से आप संतुष्ट होंगे। यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी है तो इसे शेयर करना ना भूले। इस पोस्ट मे सिर्फ इतना ही। धन्यवाद

इन्हे भी पढ़ें-

ब्रिज लोन क्या होता है? Bridge Loan In Hindi, Gap Finance Loan

FD एफडी पर लोन कैसे लिया जाता है, Fixed Deposit लोन क्या होता है, पूरी जानकारी

फेसबुक से बिजनेस लोन कैसे लें | 5 लाख से 50 लाख तक का बिजनेस लोन

Leave a Reply