पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम: भारतीय पोस्ट ऑफिस की Monthly Income Scheme में पैसे निवेश करने से पहले आपको इस स्कीम के बारे में जानकारी होना बेहद जरूरी है। हम आपको Post Office Monthly Income Scheme से संबंधित सारी जानकारी देने वाले हैं। यह स्कीम कितने दिनों के लिए होती हैं। इसमें कितना पैसा निवेश किया जाता हैं। इस स्कीम में कितना ब्याज मिलता हैं। इन सभी सवालों के जवाब हम इस पोस्ट मे देंगे।

Post Office Monthly Income Scheme in Hindi: आपके लिए बेहद जरूरी है कि आप किसी भी स्कीम में पैसे निवेश करने से पहले उसके बारे में सारी जानकारी प्राप्त करें। हर कोई इंसान पैसे का इस्तेमाल करके पैसा कमाना चाहता है। मगर कभी कभी ऐसा भी हो जाता हैं कि जानकारी के अभाव में नुकसान उठाना पड़ जाता हैं।
उम्मीद है आप ऐसे लोगों में से नहीं है जो बिना जानकारी लिये पैसे निवेश करते हैं। और बाद में पछताते हैं। आज हम पोस्ट ऑफिस मासिक आय स्कीम को जानेंगे और बताएंगे कि इस स्कीम में आप कैसे निवेश कर सकते हैं।

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम क्या हैं, post office monthly income plan, डाकघर मासिक आय योजना के बारे में जानकारी
पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम क्या हैं
इस पोस्ट में आप पढ़ सकते हैं

पोस्ट ऑफिस मासिक आय स्कीम क्या हैं

पोस्ट ऑफिस मासिक आय स्कीम (MIS) एक फिक्स डिपॉजिट स्कीम ही हैं। जिसमें पैसे को निश्चित अवधि के लिए जमा किया जाता हैं। जिसपर पोस्ट ऑफिस ब्याज देता हैं। पोस्ट ऑफिस, ग्राहक को हर महीने ब्याज का पैसा देता रहता हैं। जिसके कारण इसे मंथली इनकम प्लान या मासिक आय स्कीम भी कहते हैं। इस स्कीम की मेच्योरिटी पर जमाकर्ता को केवल खाते में जमा मूलधन ही मिलता हैं। क्योंकि ब्याज का पैसा हर महीने जमाकर्ता के बचत खाते में डाल दिया जाता हैं। इस स्कीम में कितना पैसा निवेश करने पर कितनी इनकम होती हैं ये सब हम आगे बताने वाले हैं।

पोस्ट ऑफिस एमआईएम स्कीम की ब्याज दर कितनी हैं

पोस्ट ऑफिस द्वारा संचालित Monthly Income Scheme मे ब्याज दर हर तीन महीने के बाद सरकार द्वारा तय की जाती है। ब्याज दर की समीक्षा के बाद अलगे तीन महीने के लिए ब्याज दर तय की जाती हैं। 2021 के आखिरी तिमाही के लिए पोस्ट ऑफिस एमआईएम स्कीम के लिए वार्षिक ब्याज दर 6.6 प्रतिशत तय की गई हैं।

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम के लिए कितना पैसा चाहिए

पोस्ट ऑफिस की मासिक आय योजना में निवेश करने के लिए अकेले व्यक्ति के खाते में अधिकतम 4.5 लाख रुपए तक जमा किये जा सकते हैं। यदि ज्वाइंट खाता हैं तो इसमें 9 लाख रुपए जमा किये जा सकतें हैं। इस तरह से एक व्यक्ति के लिए 4.5 लाख रुपए अधिकतम सीमा हैं। वही निवेश की न्यूनतम सीमा 1000 रूपए है। Joint Account में निवेश करने वाले दोनों जमाकर्ताओं की हिस्सेदारी बराबर की होती है।

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना कितने दिनों के लिए होती हैं

पोस्ट ऑफिस की मासिक आय योजना पांच साल के लिए होती हैं। इसकी मेच्योरिटी अवधि फिक्स होती हैं। क्योंकि यह एक फिक्स डिपॉजिट स्कीम ही हैं। इसकी अवधि के चुनाव के लिए कोई दूसरा विकल्प नहीं है। आप केवल पांच साल के लिए ही इस स्कीम में पैसे निवेश कर सकते हैं। हालांकि इमरजेंसी के समय आप इस स्कीम को परिपक्वता (Maturity) से पहले तोड़ भी सकते हैं। मगर ऐसा करने पर अतिरिक्त शुल्क भी देना पड़ता है।

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना मे कितना लाभ होता हैं

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना में आय की गणना आपके द्वारा जमा की गई राशि के हिसाब से होती हैं। इस स्कीम में आपको इनकम के तौर पर जमा राशि का ब्याज दिया जाता हैं।
यदि आप इस स्कीम में 4.5 लाख रुपए जमा करते हैं तो आपकी इनकम इस प्रकार होगी-
अकेले खाताधारक के इनकम होगी-
मासिक इनकम= 2475 रूपए
सालाना इनकम 29700 रूपए होगी
पांच साल में इनकम= 148500 रूपए
ज्वांइट खाताधारकों की अधिकतम इनकम होगी-
मासिक इनकम= 4950 रूपए
सालाना इनकम= 59400 रूपए
पांच साल की इनकम= 297000 रूपए

इसे भी पढ़ें- क्रेडिट कार्ड का सही उपयोग कैसे करें जिससे आपको ज्यादा फायदा मिल सकें

मेच्योरिटी से पहले भुगतान करने पर कितना शुल्क लगता हैं

आपने ऊपर भी पढ़ा होगा कि यह स्कीम पांच साल के लिए ही होती हैं। इसका मेच्योरिटी अवधि फिक्स हैं। फिर भी यदि आपको पैसे की ज्यादा जरूरत पड़ती हैं और आप पैसों का भुगतान मेच्योरिटी से पहले करना चाहते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि आप इस स्कीम को शुरू करने से एक साल के भीतर बंद नहीं कर सकते या तोड़ नहीं सकते। एक साल के बाद और तीन साल से पहले यदि आप स्कीम को बंद करना चाहते हैं तो आपको अपनी जमा रकम का 2 प्रतिशत शुल्क देना होगा तभी आप पैसा का भुगतान कर सकते हैं। हालांकि तीन साल के बाद स्कीम बंद कराने पर 1 प्रतिशत पेनल्टी के तौर पर शुल्क देकर ही अपनी जमा रकम को पा सकते हैं। ऐसा करने पर आपको बचत खाते पर मिलने वाली ब्याज दर से जमा रकम पर ब्याज मिलता हैं।

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम Eligibility Criteria

• स्कीम में खाता खुलवाने वाला व्यक्ति भारतीय होना चाहिए।
• जमाकर्ता के पास एकमुश्त राशि होनी चाहिए।
• यदि जमाकर्ता, स्कीम, 50 हजार से अधिक रूपए से शुरू करता हैं तो जमाकर्ता के पास पेनकार्ड होना जरूरी हैं।
• पोस्ट ऑफिस में बचत खाता होना चाहिए जिसमें ब्याज की रकम हर महीने जमा हो सकें।

पोस्ट ऑफिस MIS में निवेश पर इनकम टैक्स में छूट मिलती हैं या नहीं

Post Office Monthly Income Scheme में मिलने वाले ब्याज को आय के रूप में माना जाता हैं। इसलिए आयकर अधिनियम 80 सी के तहत पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम से होने वाली इनकम कर योग्य होती हैं। हालांकि पोस्ट ऑफिस द्वारा इनकम से किसी प्रकार की कोई कटौती नहीं की जाती हैं।

पोस्ट ऑफिस मासिक आय स्कीम आवश्यक दस्तावेज

पोस्ट ऑफिस मासिक आय स्कीम आवश्यक दस्तावेज के तौर पर आपको अपना पहचान का प्रमाण, अपने पते का प्रमाण, फोटो आदि देना होता है।
पहचान का प्रमाण- आधार कार्ड, पहचान पत्र, पेनकार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस आदि मे से कोई एक होना चाहिए।
पते का प्रमाण- आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, राशन कार्ड, पासपोर्ट आदि मे से कोई एक होना चाहिए
पासपोर्ट साइज फोटो ( हाल ही में खींचे गए फोटोग्राफ्स)
• यदि आप 50 हजार से अधिक रूपए इस स्कीम में जमा करते हैं तो आपको पेनकार्ड लगाना आवश्यक होता हैं।
• यदि आपका पोस्ट आफिस में बचत खाता है तो अकाउंट नंबर की आवश्यकता भी पड़ सकती हैं।

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (POMIS) किसके लिए बहतर हो सकती हैं

इस स्कीम में कोई भी व्यक्ति अपना पैसा निवेश कर सकता है। हालांकि इस स्कीम में एकमुश्त रकम जमा की जाती हैं जिसके चलते इस स्कीम में पैसा लगाना हर किसी के लिए आसान नहीं होता हैं। फिर भी कुछ स्थिति में यह स्कीम अच्छा विकल्प हो सकती हैं।
• रिटायरमेंट के समय एकमुश्त रकम मिलने पर इस स्कीम में पैसा निवेश करना अच्छा विकल्प हो सकता हैं।
• किसी प्राॅपर्टी के बेचने पर इक्ट्ठी रकम मिलने पर भी इस स्कीम में पैसा लगाया जा सकता हैं।
• जो लोग अपना पैसा किसी रिस्क वाली स्कीम में निवेश नहीं करना चाहते हैं वो पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम में पैसा निवेश कर सकते हैं।
• जो लोग अपनी रकम पर हर महीने ब्याज पाना चाहते हैं वो भी अपना पैसा मंथली इनकम प्लान में निवेश कर सकते हैं।

Post Office Monthly Income Scheme में अकाउंट कैसे खोलें

डाकघर मंथली इनकम स्कीम मे खाता खुलवाने के लिए आपको अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस में जाना हैं। पोस्ट ऑफ़िस मंथली इनकम प्लान का आवेदन फार्म भरना हैं। आवेदन फार्म के साथ जरूरी दस्तावेज़ भी लगाकर जमा कर देना हैं। पोस्ट ऑफिस के अधिकारी आपके आवेदन की जांच करके आपका मंथली इनकम प्लान में खाता खोल दिया जाता हैं। इसके साथ ही आप जितनी रकम इस प्लान में जमा करना चाहते हैं उतनी रकम नगद या चेक के रूप में भी दे सकते हैं। नगद रकम जमा करने पर तुरंत खाता चालू हो जाता हैं जबकि चेक देने पर चेक का भुगतान होने तक समय लग सकता हैं। इस प्रकार आपका पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम प्लान (मासिक आय योजना) में खाता खुल जाता हैं। यदि आप चाहें तो इस स्कीम में एक व्यक्ति के नाम पर एक से अधिक खाते भी खोलें जा सकतें हैं।

इसे भी पढ़ें- एसबीआई मासिक आय योजना क्या है, इसके ब्याज, लाभ, लोन, मेच्योरिटी

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम प्लान की विशेषताएं

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना में कोई भी भारतीय अपना खाता खुलवा सकता हैं।
• इस स्कीम में अकेले या संयुक्त खाता (Joint Account) भी खुलवाया जा सकता हैं।
• इस स्कीम में नाॅमिनी दर्ज करने का विकल्प भी होता है जिससे जमाकर्ता की मृत्यु हो जाने पर नाॅमिनी को आसानी से जमा राशि मिल जाती हैं।
• यह स्कीम पांच साल के लिए फिक्स होती हैं।
• इस स्कीम में ब्याज दर 6.6 प्रतिशत होती हैं।
• इस स्कीम में पांच साल में Single Account से 148500 व Joint Account से 297000 रूपए की इनकम हो सकती हैं।
• पोस्ट आफिस मासिक आय स्कीम में खाता खुलवाने के बाद पोस्ट आफिस की किसी भी शाखा में ट्रांसफर किया जा सकता हैं।
• जमा राशि पर बनने वाला ब्याज हर महीने मिलता रहता हैं।
• पोस्ट ऑफिस की स्कीम केन्द्र सरकार के अधीन होती हैं जिसके कारण इसमें रिस्क ना के बराबर होता हैं।

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम प्लान में ध्यान रखने योग्य बातें

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम प्लान में पैसा जमा करने से पहले सुनिश्चित कर लें कि आपको पूरे पांच साल के लिए ही इस स्कीम में अपनी रकम जमा करनी हैं।
इमरजेंसी होने पर भी आप इस स्कीम में जमा राशि को एक साल से पहले किसी भी हालात में नहीं निकाल सकते हैं।
• यदि आप 1 साल से तीन साल के बीच स्कीम को तोड़कर पैसा निकालना चाहते हैं तो आपको 2 प्रतिशत शुल्क देना पड़ता हैं।
• तीन साल के बाद मेच्योरिटी से पहले जमा राशि को निकालने पर 1 प्रतिशत शुल्क देना पड़ता हैं।
• ध्यान रहें कि मेच्योरिटी पर आपको केवल जमा मूलधन ही मिलता हैं। क्योंकि ब्याज आपको हर महीने मिलता रहता है।
• हर महीने की इनकम का मतलब आपको जमा रकम पर ब्याज ही मिलेगा।
• इस स्कीम पर मिलने वाला ब्याज आपकी इनकम के रूप में माना जाता हैं।
• इस स्कीम से होने वाली इनकम पर आयकर अधिनियम 80 C के तहत छूट का प्रावधान नहीं है।

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना (पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम प्लान) के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी जान चुके होंगे। जैसे पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना क्या हैं, इस योजना में कितना पैसा निवेश किया जा सकता हैं, इससे कितनी इनकम होती हैं। इसके अलावा और भी बहुत सी जानकारी जो आपको जरूर मालूम होनी चाहिए।
यदि आपका कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं। या फिर आप हमारे फेसबुक पेजटेलीग्राम चेनल से भी जुड़ सकते हैं जहां आप अपने सवालों के जवाब पा सकते हैं।
उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो और आपके लिए बताई गई सभी जानकारी उपयोगी होगी। धन्यवाद

इसे भी पढ़ें-

पोस्ट ऑफिस आरडी (Reccuring Deposit) स्कीम क्या हैं, इसमें कितना लाभ होता हैं

निधि फाइनेंस कंपनी क्या है | निधि कंपनी के कार्य व नियम क्या होते हैं

किसान क्रेडिट कार्ड के फायदें क्या क्या होते हैं | KCC Loan की विशेषताएं

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन कैसे आवेदन करें? Pradhanmantri Mudra Loan Kaise Le

Leave a Reply